DO you MISS your ScHooL dayz..??

लिखनी है 1 किताब तुम यार दोस्तों के नाम
कहना चाहता हूँ दो लफ्ज़ इन kamino के नाम ..
बहुत सी यादें जुडी है ,कितनी मुलाकातें सजी हैं
कब बीते यह पल , समझ न पाए हम
क्या होगा कल , यह सोच रो न जाए हम..
हर साल यूँही कोई poem बनाता है ..
xii के ग़म में सबको झूलता है..
सब कहते हैं..
यह पल ज़िन्दगी के सबसे हसीं हैं ..
क्या जाने कल ज़िन्दगी के रंग और भी रंगीन हैं..
फलक 1 महीने की देरी है, पूरी ज़िन्दगी फिर अकेली है..!!
कल P .T. SIR na रोकेंगे, बाल लम्बे ही रखना,
कल nail  paint के रंग  मन को न  भाएंगे , जब लम्बे नाख़ून..tumhe P.T ma’am ki याद दिलाएंगे ..
अब क्यूँ phone घूमोगे, एक रात पहले किसे Eng portion बताओगे..??
ek पल था जब punishment से डर लगता था..
homewrk करने को मेरा भी मन करता था..
वो Maths  ke  REPEATIONS
vo BEST ke MERITS & LIMITATIONS..
अब बहुत हुआ इतना….emotion
कौन ले कल की tension..!!
बड़ा अजीब है यह पल!! रहे हैं कई साल इधर..
पसंद न आया कभी ..
अब जब जाने का समय आया , चाहते हैं स्कूल छूते न कभी..
कल ज़रूर EK पल आएगा,ज़िन्दगी में EK लम्हा तुम्हे हस्ते हस्ते शायद रुलाएगा…
जब तुम्हे तुम्हारा स्कूल और SCHOOL KA AUDITORIUM yaad ayega..

Advertisements

About Aaditya Jain

Myself aadi.. a friend lover thinker composer life enjoyer and a true arian..:) my habitatians say i'm great at motivating.. and i feel pretty much d same..:D Positive in way of living and i believe in standing for wat is correct.. baaki same an undergraduate , a abnormal cum normal college brat.. loves music like hell .. andin d free tym i even love to write draw eat ..everything including dance .. cricket.. travelling xploring..n njyng..:) over and out.

Posted on August 22, 2011, in Stories & Poems and tagged , , , . Bookmark the permalink. Leave a comment.

Add your views

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s